Home

गणेश चालीसा हिंदी अर्थ सहित | Ganesh Chalisa In Hindi PDF Free Download

136 View
File Size: 183.26 KiB
Download Now
By: pdfwale
Like: 0
File Info
गणेश चालीसा हिंदी अर्थ सहित | Ganesh Chalisa PDF, गणेश चालीसा इन हिंदी PDF, गणेश चालीसा के फायदे PDF, गणेश जी की आरती PDF, गणेश जी की पूजा विधि PDF, Download Interface Is Given At The Lower Part Of This Article.

गणेश चालीसा हिंदी अर्थ सहित | Ganesh Chalisa PDF Download


गणेश चालीसा की कहानी बताती है कि कैसे गणेश को सबसे पहले पूजा करने की सहायता मिली। कहानी कुछ इस तरह है: जब मास्टर गणेश की कल्पना की गई थी, तो वह आकाश से खिले हुए नीचे आ रहे थे, शासक शिव और माता पार्वती संतुष्ट थे और मेहमानों को उपहार दे रहे थे। देवता, ऋषि-मुनि उसे देखने आ रहे थे और बालक के दर्शन में सहभागी हो रहे थे।

शनि देव भी बालक को देखने की लालसा से वहां पहुंचे, लेकिन उन्होंने अपनी बदबूदार आंख देखकर बालक को नहीं देखा होगा। जब पार्वती जी ने उनसे दर्शन करने का अनुरोध किया तो शनि देव यह न कहने लगे कि बालक को मेरे सामने प्रदर्शित करने से क्या होगा। जब शनिदेव ने ऐसा कहा तो माता पार्वती ने प्रश्न किया कि शनि को मेरे बालक के परिचय का पर्व अच्छा नहीं लग रहा है। उन्होंने शनिदेव से बालक के दर्शन करने का अनुरोध किया। जब शनिदेव की दृष्टि बालक गणेश पर पड़ी तो बालक का सिर ऊपर की ओर उड़ गया। यह देखकर पार्वती जी का हृदय व्याकुल हो गया और वे मूर्छित होकर भूमि पर गिर पड़ीं।

कैलाश में चारों तरफ हाहाकार मच गया कि शनि ने देवी उमा की संतान का सर्वनाश कर दिया है। ऐसा होने पर भगवान विष्णु गरुड़ पर सवार होकर हाथी की टांग लेकर कैलाश पहुंचे। हाथी का सिर बच्चे के मध्य में लगा और भगवान शिव ने मंत्र की चर्चा करते हुए बच्चे को जीवित कर दिया। शासक शिव ने बालक का नाम गणेश रखा और उसे प्रथम उपासक होने का वरदान दिया।

श्री गणेश चालीसा हिंदी | Ganesh Chalisa In Hindi PDF


।। दोहा ।।


जय गणपति सदगुण सदन, कविवर बदन कृपाल ।
विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल ।।

अर्थात : वैभव, यश, आपकी महिमा, हे गणेश; पूरी दुनिया आपके लिए श्रद्धांजलि अर्पित करती है कि आप शिव के आकर्षक पुत्र हैं और गौरी की प्रसन्नता और दुख, पीड़ा और कठिनाइयों का नाश करने वाले हैं|

।। चौपाई ।।


जय जय जय गणपति गणराजू । मंगल भरण करण शुभः काजू ।।
जै गजबदन सदन सुखदाता । विश्व विनायका बुद्धि विधाता ।।

अर्थात : गौरी और शिव के पुत्र को विजय; आप सभी भय और चिंताओं के विनाशक हैं। खुशी और सुरक्षा की सभी लड़ाइयों में विजय आपकी होगी। आप सभी अज्ञान, ज्ञान और बुद्धि के दाता हैं|
वक्र तुण्ड शुची शुण्ड सुहावना । तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन ।।
राजत मणि मुक्तन उर माला । स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला ।।

अर्थात : हे गणेश, आप अपने हाथी के चेहरे पर एक विशाल कलश लेकर चलते हैं और आपका पवित्र कुंड सुशोभित है| आप गहनों की एक माला पहनते हैं और आपकी आँखें पूरी तरह से खिले हुए कमल के फूल की तरह होती हैं और आपका सिर एक जड़ा हुआ मुकुट से सुशोभित होता है|
पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं । मोदक भोग सुगन्धित फूलं ।।
सुन्दर पीताम्बर तन साजित । चरण पादुका मुनि मन राजित ।।

अर्थात : आप, गणेश, अपने भक्तों को चिंताओं और तनाव से मुक्ति दिलाते हैं। आप अपने हाथों में त्रिशूल और कुल्हाड़ी लेकर चलते हैं और आपके पसंदीदा लड्डू और सुगंधित फूल हैं|
धनि शिव सुवन षडानन भ्राता । गौरी लालन विश्व-विख्याता ।।
ऋद्धि-सिद्धि तव चंवर सुधारे । मुषक वाहन सोहत द्वारे ।।

अर्थात : दुनिया को सुख और शांति देने वाले, आप शिव और पार्वती के पुत्र और कार्तिकेय के भाई हैं| समृद्धि और पूर्णता प्रशंसकों के साथ आपकी सेवा करती है जबकि चूहे का आपका वाहन वैभव जोड़ता है|
कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी । अति शुची पावन मंगलकारी ।।
एक समय गिरिराज कुमारी । पुत्र हेतु तप कीन्हा भारी ।।

अर्थात : आपके जन्म की अजीब, रहस्यमय कहानी के लिए, आपकी महानता का वर्णन कौन कर सकता है? एक कूवारी कन्या ने जाप कर के तुम्हें पुत्र के रूप में पाया है|
भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा । तब पहुंच्यो तुम धरी द्विज रूपा ।।
अतिथि जानी के गौरी सुखारी । बहुविधि सेवा करी तुम्हारी ।।

अर्थात : शिव के रूप में प्रच्छन्न एक दानव, अक्सर गौरी को आदेश देने के लिए वहां आता था अपने डिजाइन को विफल करने के लिए, शिव की प्रिय पत्नी गौरी ने एक निर्माण किया उसके शरीर के मैल से दिव्य रूप।
अति प्रसन्न हवै तुम वर दीन्हा । मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा ।।
मिलहि पुत्र तुहि, बुद्धि विशाला । बिना गर्भ धारण यहि काला ।।

अर्थात : अपने बेटे को निगरानी रखने के लिए कहकर, उसने उसे महल के दरवाजे पर तैनात कर दिया एक कामचोर की तरह। जब शिव स्वयं वहां आए थे, तो वे थे गैर-मान्यता प्राप्त घर में प्रवेश से इनकार कर दिया गया था|
गणनायक गुण ज्ञान निधाना । पूजित प्रथम रूप भगवाना ।।
अस कही अन्तर्धान रूप हवै । पालना पर बालक स्वरूप हवै ।।

अर्थात : शिव ने पूछा: बताओ, तुम्हारा पिता कौन है? मधुर के रूप में एक आवाज में, तुम ने उत्तर दिया, हेकेन, श्रीमान, मैं गौरी का पुत्र हूं; तुम अग्रिम की हिम्मत नहीं है इस बिंदु से परे भी एक कदम।
बनि शिशु रुदन जबहिं तुम ठाना । लखि मुख सुख नहिं गौरी समाना ।।
सकल मगन, सुखमंगल गावहिं । नाभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं ।।

अर्थात : हे सर! इससे पहले कि मैं आपको जाने की अनुमति दूं मैं अपनी मां की अनुमति ले सकता हूं के भीतर; मेरे जैसे एक मात्र स्ट्रिपलिंग के साथ संघर्ष करने से कोई फायदा नहीं होगा। गुस्से में, शिव ने अपना त्रिशूल उठाया और भ्रम से प्रेरित हो गए आप पर चोट की। आपका सिर, शिरिसा फूल की तरह कोमल था अलग हो गया और तुरंत वह आकाश में उड़ गया और वहां गायब हो गया|
शम्भु, उमा, बहुदान लुटावहिं । सुर मुनिजन, सुत देखन आवहिं ।।
लखि अति आनन्द मंगल साजा । देखन भी आये शनि राजा ।।

अर्थात : जब शिव खुशी-खुशी अंदर गए जहां पर्वत की बेटी गौरी राजा बैठा था, उसने मुस्कुराते हुए पूछा, बताओ, सती तुमने कैसे दिया बेटे को जन्म? पूरे प्रकरण को सुनने पर, रहस्य साफ हो गया|
निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं । बालक, देखन चाहत नाहीं ।।
गिरिजा कछु मन भेद बढायो । उत्सव मोर, न शनि तुही भायो ।।

अर्थात : गौरी, हालांकि महान पर्वत राजा की बेटी (गतिहीनता के लिए मनाई गई) थी चले गए और व्याकुल होकर वह जमीन पर गिर गया और बोला, “आपके पास है।” मुझे बहुत बड़ा तिरस्कार मिला, मेरे प्रभु; अब जाओ और मेरे बेटे का सिर जहां से भी मिलें आप खोज कर लाओ!
कहत लगे शनि, मन सकुचाई । का करिहौ, शिशु मोहि दिखाई ।।
नहिं विश्वास, उमा उर भयऊ । शनि सों बालक देखन कहयऊ ।।
पदतहिं शनि दृग कोण प्रकाशा । बालक सिर उड़ि गयो अकाशा ।।
गिरिजा गिरी विकल हवै धरणी । सो दुःख दशा गयो नहीं वरणी ।।

अर्थात : सभी कौशलों में निपुण शिव ने विष्णु के साथ प्रस्थान किया, काफी सफर करने के बाद शनि देव ने पूछा क्या करोगे अगर किसी बच्चे का सिर नहीं मिला तो तभी फिर विश्वास रखते हुये शिव बोले आकाश में उड़ कर गया है तो यकीनन ही मिल जाएगा|
हाहाकार मच्यौ कैलाशा । शनि कीन्हों लखि सुत को नाशा ।।
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो । काटी चक्र सो गज सिर लाये ।।

अर्थात : लेकिन सिर को खोजने में जब वो हर जगह नाकाम रहे, तब वे एक हाथी को ले आए और उसे सूंड पर रख दिया और उसमें प्राण फूंक दिए|
बालक के धड़ ऊपर धारयो । प्राण मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो ।।
नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे । प्रथम पूज्य बुद्धि निधि, वर दीन्हे ।।

अर्थात : और फिर उस धड़ को आपके गले से जोड़ कर मंत्र पढ़ आपको जीवित किया| शिव ने ही आपका नाम गणेश रखा और आपको ज्ञान, बुद्धि और अमरता का आशीर्वाद दिया और यह भी कहा कि आप सबसे पहले पूजे जाएंगे|
बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा । पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा ।।
चले षडानन, भरमि भुलाई । रचे बैठ तुम बुद्धि उपाई ।।

अर्थात : जब आपके पिता जी अर्थात शिव जी ने आपकी और आपके भाई की परीक्षा ली, और कहा कि कौन पहले इस पृथ्वी के चक्कर लगता है तो आपने बैठ के बहुत ही अच्छे से अपना दिमाग लगाया|
चरण मातु-पितु के धर लीन्हें । तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें ।।
धनि गणेश कही शिव हिये हरषे । नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे ।।

अर्थात : आप, हे गणेश, अत्यंत भक्ति के साथ, अपने माता-पिता, शिव और गौरी के चरण स्पर्श किए और सात बार पृथ्वी का परिक्रमा करने के बराबर आशीर्वाद प्राप्त किया और देवता आपसे इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने आप पर फूलों की वर्षा की|
तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई । शेष सहसमुख सके न गाई ।।
मैं मतिहीन मलीन दुखारी । करहूं कौन विधि विनय तुम्हारी ।।
|| भजत रामसुन्दर प्रभुदासा । जग प्रयाग, ककरा, दुर्वासा ।।
अब प्रभु दया दीना पर कीजै । अपनी शक्ति भक्ति कुछ दीजै ।।

अर्थात : ऋषि दुर्वासा के सानिध्य में रहते हुए, भगवान राम के भक्त सुंदरदास ने चालीस छंदों में भगवान गणेश के भजन की रचना की। जो लोग प्रतिदिन गणेश की महिमा गाते हैं, वे परम आनंद से धन्य होते हैं|

।। दोहा ।।


श्री गणेशा यह चालीसा, पाठ करै कर ध्यान ।
नित नव मंगल गृह बसै, लहे जगत सन्मान ।।
सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश, ऋषि पंचमी दिनेश ।
पूरण चालीसा भयो, मंगल मूर्ती गणेश ।।

अर्थात : वह जो ईमानदारी के साथ भजन दोहराता है, उसे अनुग्रहपूर्ण उपहार मिलते हैं और उसकी नवीनता और सम्मान बढ़ता है। विक्रम वर्ष में भद्रा के महीने में दो हजार और दसवें दिन अंधेरे पखवाड़े के तीसरे दिन चालीस छंदों को पूरा किया गया। सुंदरदास ने इस प्रकार भगवान गणेश के प्रति अपनी असीम भक्ति दिखाई|

गणेश जी की पूजा विधि PDF


  • स्नानादि कर पवित्र हो जाएं। जिस स्थल पर प्रतिमा विराजमान करनी है, उसे साफ करें। गंगाजल डाल कर पवित्र करें। 
  • भगवान गणेश की प्रतिमा को चौकी पर पीले रंग का कपड़ा बिछाकर विराजमान करें।
  • धूप, दीप और अगरबत्ती जलाएं। ध्यान रखें कि जब तक गणेश जी आपके घर में रहेंगे तब तक अखंड दीपक जलाकर रखें।
  • गणेश जी के मस्तक पर कुमकुम का तिलक लगाएं। 
  • फिर चावल, दुर्वा घास और पुष्प अर्पित करें।
  • गणेश जी का स्मरण कर गणेश स्तुति और गणेश चालीसा का पाठ करें।
  • इसके बाद ॐ गं गणपते नमः का जप करें।
  • भगवान गणेश की आरती करें। 
  • आरती के बाद गणेश जी को फल या मिठाई आदि का भोग लगाएं। संभव हो तो मोदक का भोग जरूर लगाएं। भगवान गणेश को मोदक प्रिय हैं।
रात्रि जागरण करें।
  • गणेश जी को जब तक अपने घर में रखें, उन्हें अकेला न छोड़ें। कोई न कोई व्यक्ति हर समय गणेश जी की प्रतिमा के पास रहे।

गणेश जी की आरती PDF


जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा। 
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, चार भुजाधारी,
माथे सिन्दूर सोहे, मूस की सवारी।
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा।। ..
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया।
‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।।
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ..
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।
कामना को पूर्ण करो जय बलिहारी।

PDF File Categories

More Related PDF Files